Atithi devo bhava - कब जाओगे कोरोना
Atithi devo bhava - कब जाओगे कोरोना
Atithi devo bhava - कब जाओगे कोरोना

Atithi devo bhava – कब जाओगे कोरोना

Atithi devo bhava - पवन सक्सेना

Atithi devo bhava – कब जाओगे कोरोना

 

Atithi devo bhava – पवन सक्सेना

 


Winebasket.com - Lovely Gifts & Baskets at 5% Off.

2/6/2021,

‘अतिथि देवो भव:’ Atithi devo bhava सुना लेकिन जाना पहली बार कि अतिथि केवल देवता नही, राक्षस भी हो सकता है।


Winebasket.com - Lovely Gifts & Baskets at 5% Off.

मेहमाननवाजी का ये कौन सा तरीका है ? कोई रुकता है क्या इतने दिन ! तुम तो कुंभकर्ण की तरह लम्बी ही जमा कर बैठ गए और

अब तुम्हारे जाने की कोई संभावना नजर नहीं आती। जरूर तुम्हारे देश मे खाने-पीने की प्रॉब्लम है तभी तो भूख से बिलबिलाए यहाँ से वहाँ भटक रहे हो।

क्या तुम्हें अपना चायना याद नहीं आता? क्या तुम्हे तुम्हारी जन्म भूमि यानि बुहान की लैब भी नहीं पुकारती जहाँ तुम पैदा हुए हो ?

मैं जानता हूं कि तुम्हें यहाँ कि मेहमाननवाजी पसंद आ रही होगी, स्वाभाविक है, सबको दूसरों के घर में अच्छा लगता है.


Winebasket.com - Lovely Gifts & Baskets at 5% Off.

यदि लोगों का बस चले तो वे किसी और के घर में रहे वो भी किसी दूसरे की पत्नी के साथ। मगर घर को सुकून भरा आशियाना

और होम को स्वीट होम इसीलिए तो कहा जाता है कि सब अपने-अपने घर शांतिपूर्वक रहें। बुलाने पर ही किसी के घर आयें और मील-मिलाकर वापिस अपने घर लौट जाएं।

गलती कर दी, जिस दिन तुमने अपने हाथ-पैर वुहान के बाहर निकाले उसी दिन समझ लेना चाहिए था कि तुम बिना बुलाये मेहमान किसी

हैवान से कम नही। सच पूछो तो तुम किसी के सगे भी नही, तुम्हारे जन्म दाताओं ने तुम्हे हथियार की तरह इस्तेमाल करना चाहा,


Winebasket.com - Lovely Gifts & Baskets at 5% Off.

और तुम उन पर ही भारी हो गए। तुम्हारी शान में कसीदे पढ़ते, अपनी TRP चमकाते दुनियाँ के तमाम चैनल अपनी सुध-बुध ही खो बैठे

और तुमने इकोनॉमिक लेवल गिराकर उनकी ही दुकान बंद कर दी और फिर शुरू हुआ हर तरफ लोक डाऊन।

बाजार बंद है, होटल्स-रेस्टोरेंट और मॉल बंद है, चाट और फास्टफूड के ठेले भी बंद है। ट्रेन-बस-हवाई जहाज बंद, लोगों का आना-जाना बंद है,

यहाँ तक कि समंदर किनारे अंधेरे कोने में मनचलों का प्रेमलाप भी बंद।


Winebasket.com - Lovely Gifts & Baskets at 5% Off.

पान की दुकानें बंद,चाय सिगरेट की गुमठी बंद, ऑफिस-स्कूल बंद।क्लब-पार्टियाँ बंद, शादी ब्याह में फोकट में मिलने वाली दावते बंद,

पीकर झूमकर लड़खड़ाना बंद। पड़ोसन की कैंची सी चलने वाली जुबान बंद और तो और नज़रे मिलाने पर मुस्कराना भी बंद।

पहले बीबी की एक ही शिकायत रहती थी कि घर के लिए टाइम नही निकालते और अब लॉकडाउन में वही पूछती है, ‘कब तक रहोगे घर मे,

ऑफिस कब जाओगे?’ जवाब में मैं कंधे उचका देता हूं. क्योकि उसके सवाल का जवाब मेरे तो क्या किसी के पास नही।

अब तो हम सब का एक ही सवाल है कि तुम्हारा बिस्तर कब गोल होगा अतिथि?


Winebasket.com - Lovely Gifts & Baskets at 5% Off.

कुछ समय पहले तक जिम- जुम्बा और डांस की क्लासेस में फिट रहने वाली पत्नियां तुम्हारी वजह से आज वीडियो कॉल करने से भी बचती है

क्योंकि काम वाली के ना आने पर घर का सारा काम उन्ही के जिम्मे जो आ गया है। उनकी सुबह 8 बजे की जगह 5 बजे होने लगी है

और तो और बिस्तर पर जाने का समय भी आगे खिसक गया है और आते ही ऐसी गहरी नींद में जाती हैं कि पूछो मत।

सुबह उठते ही फिर बच्चों की फरमाइश, मुझे ये बना दो, मुझे वो खाना है।


Winebasket.com - Lovely Gifts & Baskets at 5% Off.

कारवाँ के गीतों से शुरू होने वाली सुबह सिंक में पड़े बर्तनों को रगड़ने से शुरू होने लगी है। दो-चार बर्तन हाथ से छूटने पर ही पूरी नींद खुलती है।

ब्रेकफास्ट, लंच और डिनर का सिस्टम सब तुम्हारी वजह से टूट चुका है। दिन भर नई-नई डिश की तैयारी, इंस्टाग्राम पर

पोस्ट डालने के लालच में गूग्गल बाबा की मदद से हर दिन एक डिश, जिसकी तारीफ करना घर के हर मेम्बर के लिए अनिवार्य।

अगर तारीफ को सिरियस ले लिया तो अगले दिन फिर उस बोरिंग डिश को झेलना और अगर गलती से सच निकल आये तो


Winebasket.com - Lovely Gifts & Baskets at 5% Off.

श्रीमती जी को झेलना और उससे बचने के लिए गलती से घर से बाहर आये पुलिस वालों को झेलना। ज़िन्दगी नरक बना कर रख दी है तुमने!

क्या-क्या जतन नही किये तुमसे पीछा छुड़ाने के लिए, थाली बजाई – ताली बजाई सोचा कि तुम चले जाओगे ।

घरों में घुप्प अंधेरा भी किया कि शायद डर कर भाग जाओ लेकिन तुम एक नंबर के लंपट निकले। तुम्हारी उपस्थिति यूं रबर की तरह खिंचेगी, कभी सोचा न था !

तुम्हारी वजह से अब बंद कमरो के आकाश में ठहाकों के रंगीन गुब्बारे नहीं उड़ते. जोक्स के पिटारे खत्म हो गए है रिपीट

टेलीकॉस्ट देख-देखकर सब बोर हो गए हैं डिस्कस करने को अब कोई सब्जेक्ट ही नही रहा।


Winebasket.com - Lovely Gifts & Baskets at 5% Off.

जिस सोफे पर टांगें पसारे मैं अभी बैठा हूँ उसके ठीक सामने एक कैलेंडर लगा है जिसकी फड़फड़ाती तारीखें देख

हर रोज बस यही प्रश्न मेरे मन में उमड़ता है, Atithi devo bhava कि तुम कब जाओगे बिना बुलाये अतिथि?

तुम कब इस देश से निकलोगे ?


Winebasket.com - Lovely Gifts & Baskets at 5% Off.

 

पवन सक्सेना

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement

More Stories
babasaheb purandare
Babasaheb purandare – पुरंदरेंची विष्ठा का चवदार लागते ?
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: